General Science:100 General knowledge Question and answer

General knowledge Question and Answer,science Gk Questions,Basic science,General Science

Questions Gk,Hindi science Knowledge, Science Questions in Hindi

General Science

वनस्पति विज्ञान शब्दावली

अपस्थानिक जड़ें Epistemic roots वे जड़ें जो पौधों की जड प्रणाली के स्थान पर तने अथवा पत्तियों से विकसित होता है।

उपचय Stockpiling उपापचय के दौरान सामान्य अणओं से जटिल जैविक अणुओं का संश्लेषण।

शैवाल Algae थैलॉफाइट समूह का सबसे छोटा जलीय हरित पौधा।

ऐनाफेस Anaphase कोषाणु के विभाजन की वह स्थिति जिसमें क्रोमेटिड अथवा क्रोमोसोम (गुणसूत्र) विपरीत ध्रुवों की तरफ बढ़ते हैं। सह-क्रामेटिड्स के विभाजन के साथ शुरू होता है। वे अपने तशतरीनुमा सेंट्रोमीअरों को अलग कर लेते हैं तथा धुरी (तर्क) की सिक क्रिया के कारण एक-दूसरे से दूर खींचे जाते है।(General Science)

वार्षिक घेरे Annual circle किसी पेड के तने की चौडाई में दिखने वाले समकेंद्रिक घेरे, जो उस पौधे की आयु बताते हैं।

वलय Ring कुकुरमुत्ते के डंठल पर बनी गोल संरचना, जो उसमें कोमल तालू के अवशिष्ट दर्शाती है।

परागकोश Anther कम ऊँचाई वाले पौधे जैसे फर्न, शैवाल तथा काई का नर शुक्राणु-धारी अंग।

जलीय पौधे Aquatic plantsवे पौधे जो पानी में उगते हैं।

Computer

Hindi -General science

आर्कीगोनियम Archigonium कम ऊँचाई वाले पौधे का मादा अंडाधारी अंग।

छाल bark पेड़ों तथा झाड़ियों का सबसे बाहरी कार्कनुमा भाग।

बैसीडिया Basidia कुकुरमुत्ते के क्लोम में मुग्दर के आकार की कोशिकाएं जो ‘बैसीडियोस्पोर’ नामक अगुणित बीजाणुओं को जन्म देती हैं।

बैसीडियो स्कार्प Bassidio scarp कुकुरमुत्ते तथा अन्य फफूंदी पौधों का फलीय अंग।


General Science Hindi

द्विवर्षीय Biennial वे पौधे जो अपना जीवन-चक्र दो वर्ष में पूरा करते हैं।

अंगमारी पौधे का कोई ऐसा रोग जो पत्तियाँ पैदा करने वाली नोकों अथवा पूरे पौधों की अकस्मात मृत्यु का कारण बनता है।

कली Bud तने अथवा शाखा पर उगा तत्व जो रक्षी सतहों से घिरा होता है। इसमें छोटा तना तथा अपरिपक्व पत्तियाँ अथवा फूल के भाग भी शामिल हैं। आंशिक रूप से खुला अपरिपक्व फूल।

Constitution Of India

Best General science

कंद Tubersतश्तरी के आकार का भूगर्भ में स्थित संक्षिप्त तना, जिसकी गद्देदार पत्तियाँ होती हैं जैसे, प्याज अथवा शलजम, जो सामान्यतः परिशोधित पत्तियों से घिरे होते हैं तथा जिनमें नये पौधों के अविकसित अंकुर के लिए भोजन एकत्रित होता है।

केक्टस Cactus रेगिस्तानी पौधा जिसका अधिकांश भाग पत्तियों से रहित होता है, जिससे जल की हानि कम से कम होती है। इनकी विशेषता होती है—मोटे गुद्देदार तथा अक्सर नुकीले तने जो पत्तियों के रूप में काम करते हैं।

केलस Callas उत्तक की मोटी परत जो तने अथवा शाखा पर उसके भीतरी ऊतक को प्रदर्शित होने से बचाने के लिए बन जाती है।

केलीक्स पौधों का रक्षी भाग जिसमें बाह्य दल होते हैं।

केम्बीअम Cambium जाइलम तथा फ्लोएम के बीच कोशाणुओं की परत, जो पौधो के विकास की गति बढाती है।

मांसाहारी पौधे वे पौधे जो कीटों से भोजन बनाते हैं जैसे—घटपर्णी (पिचर प्लांट)।

अपचय उपापचय का वह भाग जिसमें किसी जीवित वस्तु में स्थित रासायनिक पदार्थ सरलतर पदार्थों में बंट जाते हैं। इस प्रक्रिया में सामान्यत: ऊर्जा पैदा होती है।

English

Basic General Science

सैल्यूलोज Cellulose कार्बोहाइडेट की एक किस्म, पौधे की कोशाणु भित्ति का मुख्य भाग।

सैंट्रिओल Centriole कोशाणु का वह भाग जो कोशाणु विभाजन के दौरान तर्कु निर्माण के लिए महत्वपूर्ण होता है।

क्लोरोफिल Chlorophyll सभी पौधों में पाया जाने वाला हरा भाग जो प्रकाश संश्लेषण में सक्षम होता है। क्लोरोफिल केअणु सूर्य के प्रकाश से ऊर्जा सोखते हैं तथा इसे जैविक पदार्थ के संश्लेषण के लिए उपलब्ध कराते हैं।

क्लोरोप्लास्ट Chloroplast रंगीन लवक जिनमें क्लोरोफिल के अलावा अन्य वर्णक होते हैं। ये फूलों तथा फलों को रंग प्रदान करते हैं।

क्लोरेसिस Chlorosis कोई ऐसी खराबी जो क्लोरोफिल बनाने संबंधी पौधों की क्षमता को प्रभावित करती हैं।

कोमेटिन chromatin जीव कोशिका केंद्र का अनुवांशिक भाग। यह कोशिका के केंद्र में रेशों का जाल होता है जो कोशिका को विशेष रंगों से रंगे जाने पर दिखाई देता है।

क्लेडोफिल Cladoophil परिशोधित चपटा हुआ तना जो पत्ती जैसा लगता है तथा उसके जैसा कार्य करता है। इसे ‘क्लेडोड’ तथा ‘फाइलोक्लेड’ भी कहा जाता है

General Knowledge

General Science


सिलिया Cilia बाल (केश) जैसे बाहर निकले भाग, जो संचलन के काम आते हैं।

संतरी फल साइट्रस (संतरा) समूह के फल।

सिनोसिटी coenocoeti सीनोसाईट (Coenocyte) वह प्रोटोप्लास्ट अथवा कोशिका जिसमें अनेक ‘कोशिका केंद्रक’ (न्यूक्लिआई) शामिल होते हैं।

कार्म भूमिगत तने पर फूला भाग जिसमें कलियां होती हैं। यह पौधे के कायिक प्रवर्धन का कारण बनता है। कॉटिलेडन बीज में स्थित एक पत्ता जिसमें सामान्यत: खाद्य पदार्थ रहते हैं।

क्रिप्टोगेम् पुष्प रहित बीजरहित पौधे जो बीजाणु पैदा करते हैं, जैसे—शैवाल, काई, फफूंदी तथा फर्न आदि।

क्यूटीकल तने तथा पत्तियों की सतह पर पाए जाने वाली कोशाणुरहित, मोम जैसी परत जो उन्हें जल की हानि से बचाती है। इसके अलावा हाथ अथवा पैर की अंगुलियों के नाखूनों की जड़ में सख्त हुई त्वचा की पट्टी।

Important General Science In Hindi

डेसिडुअस (Deciduous) वे पौधे जो जल की हानि से बचने के लिए पत्तियाँ गिराते हैं। उष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों में ऐसा गर्मियों में तथा तापमान क्षेत्र में सर्दियों में होता है, जब ये पौधे पत्तियाँ गिराते हैं।

टीकम्बैट-स्टैम (DecumbentStem) रेंगने वाला तना, जिसमें उसके ऊपरी किनारे पर या उसके पास, ऊपर की ओर नोक निकली होती है।

द्वि-बीजपत्री पौधे जिनके बीजों में दो बीज पत्र होते हैं जैसे—चना।

द्विभक्त शाखा पौधे की ऐसी शाखा व्यवस्था जिसमें मुख्य शाखा अथवा धुरी पार्श्व शाखाएँ निकल आने पर बढ़ना बंद कर देती हैं।

डिक्टियोसोम पौधे के कोशिकांग जो छोटी थैलीनमा परतों तथा वैसीकल्स से बने होते हैं जिनमें उपापचयी क्रिया के लिए पदार्थ होते हैं।

एक्टोडर्म जीव भ्रूण में ऊतक की परतें जो बाद में बाहय-चर्म अथवा तंत्रिका कोशिका के कोशिकीय पदार्थ के रूप में परिवर्तित हो जाती हैं।

एंडोकार्प फल की सतह की सबसे भीतरी तथा अक्सर कठोर एवं चर्मीय परत।

एडोडर्मिस कुछ पौधों की सभी जडों तथा तनों में पायी जाने वाली सबसे भीतरी वल्कुट की परत जो संवहनीबंडलों को घेरे रहती है, जो जल के परिवहन को नियंत्रित करती है।

Quiz GK

General Science

एण्डोस्पर्म फूल वाले पौधों में भ्रण को घेरे रहने वाले तथा उसके द्वारा सोखे जाने वाले पोषण ऊतक।

ऐपीडर्मिस किसी जीव की सबसे बाहरी कोशिकीय परत।

अधिपादप वे पौधे जिनकी जड़ें अन्य पौधों के तनों तथा शाखाओं पर फैलती है।

एक्साकार्प किसी फल की सबसे बाहरी परत जो अनेक गद्देदार फलों का छिलका बनाती है।

फ़र्न अनेक पौधों का समह जो नमी एवं छायायुक्त भमि पर उष्णकटिबंधीय तथा उपोष्ण जलवाय में उगते हैं। जीवाश्म जीवाश्मों के अंश जो चटटानों में सुरक्षित बचे होते हैं।

Most Famous General Science

फफूंदी एक पुष्परहित पौधा जिसमें क्लोरोफिल नही होती। यह अपना भोजन स्वयं तैयार नहीं कर पाता, अत: पूरी तरह जीवित अथवा मृत जैव पदार्थों पर निर्भर होता है।

युग्मक विकसित पुनरुत्पादक कोशिका अर्थात ‘सैल-स्पर्म’ अथवा गर्भाधान के दौरान बना, पुनरुत्पादक/जर्म सैल जो नर अथवा मादा जीव द्वारा पैदा किया गया हो।

गैमिटोजैनेसिस गैमिट बनने की प्रक्रिया।

गैम्मा ब्रायोफाइट में वनस्पति पुनरुत्पादन का एक छोटा प्याले के आकार का अंग।

जीन क्रोमोसोम का वह भाग जो वंशानुक्रम दर्शाता है।

जीओट्रॉपिज़्म गुरुत्वाकर्षण के प्रशव की प्रतिक्रिया (विशेषण: जीओट्रॉपिक)।

जर्मिनेशन पौधे के बीजाणुओं अथवा बीजों में विकास का प्रारंभ।

General Science

ग्राना क्लोरोफिल युक्त क्लोरोप्लास्ट में पायी जाने वाली थैलीनुमा परतों की गड्डी।

जिम्नोस्पर्म अनावृत बीजी श्रेणी का कोई पौधा। इनमें शंकुधारी पेड़ तथा अन्य पौधे आते हैं जिनके बीज गर्भाशय (ओवरी) में ढके नहीं होते।

हैपलाइड उन युग्मकों अथवा यौन कोशिकाओं की विशेषता जिनमें अकेले-अकेले क्रोमोसोम (जो सामान्यत: जोड़ों में पाए जाते हैं) होते हैं

चूषकाग एक विशेष अंग जिसके माध्यम से परजीवी पौधे, जैसे—फफूंदी, मेजबान पौधे से भोजन ग्रहण करते हैं।

शाक इस नाम से उन छोटे पौधों को जाना जाता है जिनके भूमि के ऊपर लकड़ीनुमा तने नहीं होते। हैटेरोक्रोमैटिन कोशिका केंद्र में पाया जाने वाला निष्क्रिय क्रोमेटिन।

Vigyan -General Science

हाईलम वह बिंदु जब बीज फल से जुड़ा होता है।

हिस्टॉन प्रोटीन की एक किस्म जो क्रोमोसोम में न्यूक्लिक अम्ल डी.एन.ए. के साथ पाया जाता है।

हाईमैनियम कुकुरमुत्ते के ‘गिल’ बनाने वाले बीजाणुओं की बाहरी परत अथवा कुछ फफूंदों की फलीय काया की बीजाणु (स्पोर) युक्त परत।

हाइपोडर्मिस बाहय त्वचा के नीचेकोर्टिकल कोशिकाओं की सबसे बाहरी परत जो जल भंडारणअथवा मजबूती प्रदान करने वाले ऊतक के रूप में काम करती है।

हाईब्रिड विभिन्न प्रजातियों अथवा जातियों (जेनरा) के पौधों को मिलाकर पैदा किए गए पौधे तथा ऐसे पौधे एवं जानवर जिन्हें आनुवांशिक रूप से अलग प्रकार के माता-पिता के द्वारा पैदा किया गया हो।

हाइपोकोटाइल युवा पौधे के तने का भाग जो बीजपत्रों (कोटिलैडन्स) के बीच पड़ता है।

अंतरावस्था कोशिका के विभाजन की एक स्थिति जब वास्तव में कोशिका केंद्र विभाजित नहीं हो रहा होता अपितु सामान्य प्राण सक्रिय रूप से रत होता है। यह दो विभाजनों के बीच की अवधि है जब कोशिका केंद्रक को अंतरावस्था में दर्शाया जाता है।

General science Basic Knowledge

किटहारी ऐसे पौधे जो कीटाणुओं को आकर्षित करते हैं तथा नाइट्रोजन प्राप्त करने के लिए उन्हें हज़म कर जाते हैं, जैसे घटपर्णी (पिचर प्लांट)।

समद्विपार्श्व पत्ते एकबीज वर्ग के पौधों की पत्तियाँ जिनकी बनावट दोनों तरफ एक जैसी होती है।

श्वेताणु श्वेत अथवा रंगहीन नवनिर्मित कोशिकाओं में से कोई, जो रक्त में पायी जाती है।

लयूकोप्लास्ट पौधे की कोशिका के कोशिकाद्रव्य में रंगहीन प्लैस्टिड (लवक) जिनके चारों ओर स्टार्च इकट्ठा होता है।

लीगनिन पौधे की कोशिका भित्ति में पाया जाने वाला जटिल जैव यौगिक जो उसे शक्ति देता है। विशेष रूप से जाइलम टिशू  में पाया जाने वाला यह लिगनिन पेड़ों की लकड़ी में लगभग 50% तक होता है।

लिपिड कार्बन हाइडोजन तथा ऑक्सीजन का एक वसायुक्त यौगिक जिसमें ऑक्सीजन, कार्बोहाइड्रेड के मुकाबले कम मात्रा में होती है। इसमें वसा, तेल, मोम तथा संबंधित पदार्थ होते हैं।

science hindi

Biology General Science

लिवरवाटर्स प्राचीन बीजाणु युक्त पौधों का समूह जो काई सहित ब्रायोफाइटा का समूह बनाते हैं।

मैट्रिक्स ऊतक का कोशिका रहित आधार पदार्थ।

मैटाफेस कोशिका विभाजन का दूसरा चरण अथवा सूत्रीविभाजन तथा अर्धसूत्रीविभाजन के दौरान कोशिका केंद्रक का विभाजन,जिसमे झिल्ली टूटती है तथा रेशेदार तर्कु बनता है। तर्कु के दो ध्रुव कोशिका के दोनों सिरों पर होते हैं तथा कोमेटिड जोडे स्पिंडल की मध्यरेखा पर पंक्तिबद्ध हो जाते हैं।

मेरिस्टम ऊतक सूत्रीविभाजन के लिए सक्रिय कोशिकाएँ जो सामान्यत: तने, जड तथा शाखाओं के शीर्ष बिंदु पर पाई जाती हैं।

मैसोकार्क फल के बीच की परत जो कभी-कभी गुदेदार हो जाती है।

मैसोडर्म अंतस्त्वचा तथा बाह्यत्वचा के बीच की भ्रूणीय जर्म लेयर।

मध्यम पर्ण किसी पत्ती की ऊपरी तथा निचले बाह्यत्वचा के बीच का मुलायम ऊतक जिसमें क्लोरोप्लास्ट होते हैं तथा यह प्रकाश संश्लेषण में शामिल होता है।

General Science

माइक्रोस्पोरोफिल फर्न की वह संरचना जो माइक्रोस्पोरेंजिया को धारण करती है।

माइक्रोसोम सबसे छोटे आकार के कोशिका कण जो विशेष रूप से अंतर्द्रव्यी जालिका के एक टुकड़े से युक्त होते हैं, जिसमें राइबोसोम्स लगे होते हैं

पार्थेनोकार्पी वह प्रक्रिया जिसके अंतर्गत निषेचन के बिना फल का विकास होता है।

पैडिसैल किसी फूल का डंठल जो उसे सहारा देता है।

पैडंकल वह धुरी जिस पर पुष्पक्रम (इन्फ्लोरेसेंस) में फूल लगते हैं।

पैरीकार्य किसी फल के भीतर बीजकोष का आवरण जो बीजकोष की भित्ति से विकसित होता है।

पिलीअस कुकुरमुत्ते अथवा किसी अन्य ‘फफूंदी’ का टोपी जैसा भाग।

पिन्ना संयुक्त पत्ते की छोटी पत्ती।

Lucent General Science

फ्लोएम एक जटिल ऊतक जो पौधों में पाया जाता है तथा खाद्य पदार्थ का संचलन करता है।

प्लाज्मालेम्मा किसी कोशिका का बाहरी जीवित मैम्ब्रेन

प्रोफ़ेस कोशिका विभाजन का प्रथम चरण. जिसमें ‘क्रोमोसोम’ अथवा ‘क्रोमेटिडा’ मध्य में एक ‘स्पिडल’ बनाने के लिए पंक्तिबद्ध होते हैं इसमें क्रोमोसोम‘ दो समधर्मी ‘क्रोमेटाइड्स’ के रूप में दिखाई देते हैं, जो कुंडली का आकार ग्रहण कर लेते हैं तथा बाद में छोटे तथा मोटे हो जाते हैं।

प्रोथेलस फर्न का युग्मकोद्भिद जिसमें यौन अंग होते हैं।

प्रोटोनेमा ब्रायोफाइट का युवा युग्मकोद्भिद, जो बीजाणु अंकुरण के बाद विकसित होता है।

General Science

प्रोटोप्लास्म कोशाणु का जीवित तत्व जिसमें कोशिका द्रव तथा केंद्रक शामिल होते हैं। यह जैली जैसा चिपचिपा  पदार्थ होता है जिसमे पौधे तथा जंतुओं के जीव कोशाणुओं का जैव पदार्थ होता है तथा यह मूलभूत जीवन का कार्य करता है।

रैकिस rachis ) फर्न की पत्ती की धुरी, जिससे पिच्छक (पिन्ना) उत्पन्न होता है।

मुलाशस छोटे पौ धों में पायी जाने वाली बाल (केश) जैसी उत्पत्ति, जो पौधे को भूमि से जोड़े रहती है तथा उससे पोषण प्राप्त करने में सहायक सिद्ध होती है।

प्रकंद भूमिगत तना।


General Science GK

राइबोसोम अनेक गोलाकार कोशिका द्रव्यी कण जिनमें आर.एन.ए. तथा प्रोटीन होते हैं। यह प्रोटीन संश्लेषण के स्थल होते हैं

विगलन इस शब्द से पौधों के उत्तक की की खराबी अथवा विघटन दर्शाया जाता है, जो सामान्यत: जीवाणु अथवा फफूंदी के कारण या कभी सूखे के कारण प्रारंभ होता है।

रस्ट परजीवी फफूंदी जो अनेक पौधों को संक्रमित करती है, जिससे उनकी पत्तियों तथा तने पर लाल तथा काले धब्बे पड़ जाते हैं। यह पौधे का एक रोग है जो फफूंदी के कारण होता है तथा पत्तियों, तने तथा अन्य भागों पर लाल अथवा भूरे धब्बों से पहचाना जाता है।

सैप पौधे के ऊतक और कोशाणु में पाया जाने वाला जलीय द्रव, जिसको संवहनी (वैस्कुलर) ऊतकों अथवा संवहन उत्तक जाइलम तथा पोषवाह (फ्लोएम) के माध्यम से पूरे पौधे में पहुंचाया जाता है।

सैप्रोफाइट बैक्टीरिया अथवा फफंदी जैसे पौधे जो मृत जैवीय पदार्थों में उगते हैं, तथा उनसे भोजन प्राप्त करते हैं। इनमें क्लोरोफिल नहीं होता है। अत: यह अपना भोजन नहीं बना सकते।

नवोद्भिद पौधों के जीवन की एक अवस्था जो अंकुरण के साथ प्रारंभ होती है तथा पहली वास्तविक पत्ती निकलनेके साथ समाप्त होती है।

झाड़ी इस शब्द से ऐसे अनेक लकड़ी युक्त तने वाले पौधों को वर्णित किया जाता है जो भू-स्तर पर अथवा उसके निचे स्थित किसी बिंदु से उगते हैं।

स्पमैंटोफाइट बीजधारक पौधे जिनमें आवृतबीजी तथा अनावृतबीजी शामिल होते हैं।

बीजाणुधानी पुंज फर्न में पाई जाने वाली पुनरुत्पादक संरचना जिसमें बीजाणुपुंज होता है, जो वास्तव में प्लेसेंटा में पाया जाता है

अंसफलक कंटक एक पत्ती जो पतले नुकीले काँटेनुमा रूप में बदल जाती है।

तर्कु कोशाणु विभाजन के समय कोशाणु में दिखने वाली एक संरचना।

बीजाणु पौधे की सूक्ष्म पुनरुत्पादक काया जो फर्न, काई, फफूंदी तथा अन्य छोटे पौधों में पुनरुत्पादन का मुख्य साधन होती है।

स्पोरोफाइट पौधों के जीवन चक्र में बीजाणु धारक उत्पत्ति, जिसमें प्रत्येक कोशाणु का एक कोशाणु केंद्रक होता है जिसमें गुणसत्र के दो जोड़े होते हैं जो अर्धसूत्रीविभाजन द्वारा ऐसे पुनरुत्पादक बीजाणु पैदा कर सकते हैं, जिनमें केवल एक जोड़ा गुणसूत्र होते हैं।

पुंकेसर फूल का पुनरुत्पादक ‘नर’ भाग जो नर जननांग युक्त वृंत एवं मुंड उत्पन्न करता है जिसमें पराग की थैलियाँ होती हैं, जो फटकर परागकण छोड़ती हैं।

वृंत कुकुरमुत्ते की डंडी।

पीठिका हरितवलक क्लोरोप्लास्ट में ‘ग्रेना’ के चारों और मौजूद रंगहीन घना पदार्थ।

प्रतान परिशोधित धागानुमा तना अथवा पत्ती, जो सहारे के साथ चिपके रहने के काम आते हैं।

परिदल पंखुड़ियों तथा बाह्य दल के लिए सामूहिक रूप से प्रयुक्त शब्द।

GK-General science

थैलस पौधे की ऐसी काया जिसे—जड़, तने तथा पत्तियों में बाँटकर नहीं देखा जा सकता, जैसा-कुछ शैवाल, ब्रायोफाइटा तथा फफूंदी में होता है।

वाष्योत्सर्जन पौधे के तने तथा पत्तियों से जल का वाष्पीकरण।

टेलोफेस कोशाणु विभाजन का अंतिम चरण जिसमें कोशाणु केंद्रक मध्यवर्ती अवस्था की ओर लौटने लगता है । संतति गुणसूत्र के प्रत्येक जोड़े पर एक केंद्रकीय झिल्ली बन जाती है। इस प्रकार दो पूरे संतति कोषाणु बन जाते हैं।

अनुवर्तन किसी बाह्य प्रेरण जैसे-गुरुत्वाकर्षण अथवा प्रकाश की प्रतिक्रिया में पौधे का संचलन। इसमें पौधे का कोई भाग इसके स्थिर रहने वाले शेष भाग के मुकाबले में अपनी स्थिति बदल लेता है।

कंद भू-गर्भ में स्थित फूला हुआ तना अथवा जड़, जो भंडारण अंग के रूप में काम करता है, जैसे—आलू (तना-ट्यूबर),

डहलिया। (जड़-ट्यूबर)।

Gk Question

आशयी ऊतक ‘जाइलम’ तथा ‘फ्लोएम’ को वर्णित करने हेतु प्रयुक्त शब्द।

कायिक प्रवर्धन किसी प्रकार का पुनरुत्पादन जिसमें बीजाणु (स्पोर) अथवा बीजों का बनना शामिल न हो, जैसे—बैक्टीरिया, शमा काई आदि का पुनरुत्पादन।

गुंठिका कुकुरमुत्ते की युवा फलने वाली काया पर हाइफा का आवरण (कवरिंग)।

किसलय विन्यास पंखुड़ी में पत्तियों की व्यवस्था तथा मुड़े होना।

विषाणु ये प्रकृति से न्यूक्लियो प्रोटीन होते हैं परंतु किसी भी विषाणु में या तो डी.एन.ए. होता है या आर.एन.ए., किसी मेंदोनों नहीं होते अत: इनमें ‘जीवित’ तथा ‘मृत’ दोनों के गुण पाए जाते हैं। वे जीवन की दहलीज़ पर होते हैं।

मरुद्भिद ऐसे पौधे जो लंबे समय तक, नमी के बिना जीवित रह सकते हैं। जैसे-थूहर

जाइलम जटिल ऊतक जो जल तथा खनिजों को पौधे में ऊपर की तरफ ले जाते हैं।

जाइगॉट कोषाणु जो एक ‘नर ‘ तथा तथा ‘मादा’ युग्मक के संलयन अथवा निषेचित अंडे अथवा अंडाणु (ओवम) से बनता है।

जंतु विज्ञान शब्दावली- General Science :

General knowledge Question and answer

वसामय जंतु कोशिकीय वसा।

वसामय ऊतक शरीर में कनेक्टिव (योजक) ऊतक की एक किस्म जिसमें भंडारित कोशिकीय वसा रहती है।

अग्नेथा जलीय वर्टेब्रेट (कशेरुकी) जीव, जिनके जबड़े नहीं होते।

अमीबा सरलतम ज्ञात ‘एक-कोशिकीय’ जंतु जिसका सबसे बड़ा जीव केवल 1 मिमी लम्बा होता है तथा नंगी आंखों से मुश्किल से ही देखा जा सकता है।

उभयपद कस्टेशिया का एक समूह जिसमें सिकतावल्गी तथा ताजे जल के चिंगट शामिल होते हैं।

एंटीना युग्मों में पायी जाने वाली ज्ञानेन्द्रियां जो कीटों के सिर से बाहर लगी होती हैं।

एंथ्रोपोइड प्राईमेट वर्ग के जीवों की उच्च विकसित शाखा जैसे—बंदर, वनमानुष तथा मनुष्य। इनके शरीर में पकड़ने हेतु हाथ-पैर होते हैं इनके हाथ-पैरों की उंगलियों में नाखून होते हैं।

अनुरा उभयचरों का समूह, जैसे—मेंढक एवं टोड।

एसीलमेट ऐसे जानवजिनकी प्रगुहा तथा शरीर में कोटर नहीं होती।

एप्स आदिम जीवों का परिवार, जिसमें मनुष्य जैसे प्राणी शामिल हैं।

एरेकनिड्स संधिपाद की विशाल श्रेणी जिसमें मकड़ी, बिच्छू आदि शामिल हैं।

एरीओलर ऊतक एक प्रकार का योजक ऊतक जिसमें कोशाणु मेट्रिक्स में वितरित होते हैं। इनमें श्वेत तथा पीला फाइबर शामिल हो सकता है।

अस्थि विशेष मेट्रिक्स का बना योजक ऊतक जिसमें इलास्टिन शामिल होती है, तथा जो केल्शियम फास्फेट, केल्शियम कार्बोनेट, मैग्नीशियम फास्फेट तथा केल्शियम फ्लोराइड द्वारा अनुप्राणित होता है।

One Word-General Science

गोवंश फटे खुर युक्त स्तनधारियों का परिवार जिनके सींग भी होते हैं, जैसे—गाय, बैल, बकरी, भेड़।

भुजपाद जीव (ब्रैकियोपोड्स) विशाल जलीय कशेरुकी जीवों का समूह, जिनके दोहरे कवच होते हैं तथा इनमें अधिकांशत: विलुप्त हो चुके हैं।

केशिका अत्यंत महीन रक्त-धमनी, जिनकी दीवारें एकीय कोशिका से बनी होती हैं।

इल्ली कीड़ों का लार्वा जिसका पतला शरीर होता है, सामने की तरफ पैर होते हैं तथा अनेक मुलायम प्रपाद होते हैं।

कोशिका रस कोशाणुओं में मौजूद द्रव।

काइटिन एक प्रोटीनरहित पदार्थ जो संधिपाद जीवों का बाहरी एक्सोस्केल्टन निर्मित करता है।

असमतापी जीव ऐसे जीव जो अपने शरीर का तापमान विनियमित नहीं कर पाते, अत: वे अपने चारों ओर के तापमान के

अनुकूल बन जात है। पक्षियों तथा स्तनधारियों को छोड़ कर अधिकांश जीव इसी श्रेणी (असमतापी) में आते हैं।

कार्डेटा जीवों की एक जाति जिनका एनोटोकार्ड, तंत्रिका रज्जु, ग्रसनी पंख तथा एक पूँछ, इतिहास के किसी चरण में रहे हैं।

प्रगुह सिलमेट जीवों के शरीर की कोटर जो सभी तरफ से मैसोडर्म द्वारा आच्छादित होती है। इसमें आंतें निलंबित रहती है।

वर्मपंखी गण कीडों का एक विशाल हिस्सा जिनके नुकीले अग्र पंख होते हैं, जो उनके उदर का कुछ भाग अथवा पूरा भाग ढके रहते हैं।

सहभोजी कोई प्राणी जो अन्य जानवरों के साथ, उन्हें नुकसान पहुँचाए बिना रहता है।

कांड्रीकथिस मछली जिसका अंत: कंकाल पूरी तरह उपास्थि का बना होता है।

परुषकवची (क्रस्टैसियन्स) एंथ्रोपोड्स की विशाल एवं विविधतापूर्ण श्रेणी जिसमें केंकड़ा, समुद्री झींगा, चिंगट आदि होते हैं। इनका बाहय अस्थिपंजर होता है तथा ये अधिकांशत: जलीय जीव होते हैं।

General Science Biology

उपरति कछ जीवों में निलंबित विकास की अवधियाँ, जो सामान्यत: कुछ निश्चित मौसमों में पाई जाती है।

डायप्लोब्लास्टिक ऐसे जानवर जिनके शरीर पर दो परते होती हैं बाह्य त्वचा तथा आंतरिक त्वचा

डाइप्लॉइड कोशाणु केंद्र में गुण सूत्र के दो समूह होना।

बाह्य त्वचा बहुकोशिकीय प्राणियों में भ्रूण विकास की प्रांरभिक अवस्था में बाह्य की परत जो बाह्य त्वचा तथा इसके अन्य रूपों में विकसित होती है।

अंतरस्तवचा बहुकोशिकीय प्राणियों में सबसे भीतरी जर्म परत अथवा भ्रूण में ऊतक की परत। फ्लेम कोशाणु आंत के कृमियों (हेल्मिंथस) के उत्सर्जन कोषाणु जिनमें कोशाणु के कोटर में टिमटिमाती कशाभिका का एक चूडा होता है।

गुच्छिका तंत्रिका कोशिकाओं का ढेर।

पख श्वसन का एक अंग जो मछलियों तथा अन्य जलीय जन्तुओं में पाया जाता है

ग्रीन ग्लैंड्स परुषकवची का उत्सर्जन अंग।

लार्वा जीवों के जीवन-चक्र में एक चरण जो स्वतंत्र जीवन के सक्षम होता है।

Biology Word-General Science

मध्यजनस्तर उत्तर जंतुओं की तीन प्राथमिक विकास परतों में से बीच की परत।

नोटोकॉर्ड ठोस, बेलनाकार डंडे जैसी आकृति जो धानीयुक्त कोशिकाओं से बनी हुई तथा ‘कॉर्डेट्स’ के शरीर की धुरी के मध्य-पृष्ठ भाग में होती है। यह उनके जीवन चक्र के किसी चरण में मौजूद होती है। (general science)

तंत्रिका रज्जु खोखली नलिकाकार रज्जु जो न्यूरोस (तंत्रिका कोशिकाओं) से बनी होती है तथा गैंगलिया के साथ मिलकर तंत्रिका-तंत्र का महत्वपूर्ण भाग बनाती है।

नाल वह नली जिसके माध्यम से भ्रूण गर्भाशय के साथ जुड़ा रहता है। भ्रूण माता से इसी के माध्यम से पोषण प्राप्त करता है।

पादाभ कोशिका की काया से जीवद्रव्य का अस्थायी रूप से बाहर की ओर उभरना। अमीबा का संचलन अंग।

 

वक्ष शरीर का सिर अथवा गर्दन तथा उदर के बीच का भाग।

श्वासप्रणाली कशेरुकी तथा कुछ अकशेरुकी जीवों की श्वसन नली।

त्रिकोरकी ऐसे जंतु जिनमें प्राथमिक विकास की तीन परतें होती हैं। अंतरंग शरीर के कोटर में मौजूद अंगों के समूह हेतु प्रयुक्त शब्द।

General Science : General knowledge Question and answer,science Gk questions,Basic science

Questions Gk,Hindi science Knowledge,science questions in Hindi

 

Please Contact for Advertise