छत्तीसगढ़ अनुसूचित जनजाति

छत्तीसगढ़ अनुसूचित जनजाति व स्थान

अनुसूचित जनजाति

छत्तीसगढ़ में अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या

-66,16,596  है जो राज्य की

जनसंख्या का 31.76प्रतिशत है।

छत्तीसगढ़ अनुसूचित जनजाति व स्थान
अनुसूचित जनजाति




1 राज्य में अनुसूचित जनजाति समूह की संख्या है -42

2 छत्तीसगढ़ में 5 वीं अनुसूची की व्यवस्था लागु है।

3 प्रदेश में आदिवासी विकासखंडों की संख्या 85 है।

4 प्रदेश में गोंड सबसे बड़ा जनजाति समूह है।

5 छत्तीसगढ़ में सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति जनसंख्या वाला जिला सरगुजा है।

6 छत्तीसगढ़ में सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति प्रतिशत वाला जिला दंतेवाड़ा है।

7 छत्तीसगढ़ में कम अनुसूचित जनजाति  जनसंख्या वाला जिला कबीरधाम है।

8 छत्तीसगढ़ में कम अनुसूचित जनजाति प्रतिशत वाला जिला जांजगीर -चांपा है।

छत्तीसगढ़ अनुसूचित जनजाति

छत्तीसगढ़ में  जनजातियों के निवासरत जिले

अंध – सरगुजा। दुर्ग ,रायगढ़ ,रायपुर ,बिलासपुर ,एवं राजनांदगांव

अगरिया -कोरिया ,सरगुजा ,कोरबा ,बिलासपुर ,जशपुर ,धमतरी ,रायपुर ,रायगढ़ ,

राजनांदगाँव एवं महासमुंद

बैगा -कोरबा ,कोरिया ,कबीरधाम ,सरगुजा ,राजनांदगाँव एवं बिलासपुर

भतरा -दन्तेवाड़ा, बस्तर एवं कांकेर

मैना -जशपुर, कोरबा, धमतरी, रायगढ, बिलासपुर एवं महासमुन्द

भील/भीलाला/बरेला/पटेलिया – कोरबा, बस्तर, कांकेर, दुर्ग, सरगुजा, बिलासपुर

भारिया/भूमिया- कोरबा, कोरिया, जशपुर, रायगढ़, बिलासपुर, दुर्ग, बस्तर एवं सरगुजा

भुजिया – कोरबा, बिलासपुर, रायपुर, धमतरी, महासमुन्द

भील-मीना -राज्य में छुट-पुट बिखरे पड़े हैं

बीझवार – कोरबा, जशपुर, धमतरी, रायपुर, बिलासपुर, रायगढ़, महासमन्द,

सरगुजा

बीयर/बीयार-रायपुर, सरगुजा, कोरबा, जशपुर, बिलासपुर, महासमुन्द, रायगढ़

कोरिया एवं धमतरी

वीरहुल/बीरहोर -सरगुजा, जशपुर एवं रायगढ़

डोमार/डोमारिया-कोरबा, बस्तर, बिलासपुर

धनवार-जशपुर, कोरबा, धमतरी, रायगढ़, महासमुन्द एवं बिलासपुर

गोण्ड-सम्पूर्ण राज्य सबसे बड़ी जनजाति

गढ़बा/गढ़ाबा -बस्तर, कांकेर, कोरबा, दन्तेवाड़ा, बिलासपुर

हलबा – बस्तर, धमतरी, कबीरधाम, रायपुर, राजनांदगाँव, दुर्ग एवं महासमुन्द

कोरकू -राज्य में छुट-पुट बिखरे पड़े हैं

कमार-बस्तर, रायपुर, दन्तेवाड़ा, धमतरी, महासमुन्द

कंवार/कनवार -सम्पूर्ण राज्य

खारिया -रायपुर, रायगढ़, जशपुर, महासमुन्द

खैरवार कोन्धर -जशपुर, सरगुजा, रायगढ़, कोरिया, कोरबा, बिलासपुर

कोल -कोरिया, सरगुजा, बिलासपुर




कौन्ध -रायपुर, महासमुन्द

कोरकू/भोपची – कोरिया, सरगुजा

कोलम -कोरबा, बिलासपुर

कोरवा/कोडाकु-कोरबा, जशपुर, रायगढ़, सरगुजा

मझवार- कोरबा, कोरिया, सरगुजा, बिलासपुर

माझी -कोरिया, कोरबा, सरगुजा, रायगढ़, जशपुर, बिलासपुर

मुण्डा-सरगुजा, रायगढ़, जशपुर, महासमुन्द

मवासी -कोरबा, सरगुजा, बिलासपुर

नगेशिया -जशपुर, सरगुजा, रायगढ़

उराँव धनका – रायगढ़, जशपुर, सरगुजा, कोरिया, कबीरधाम, कांकेर, सरगुजा,

बस्तर, बिलासपुर

परधान/पठारी/ सारथी- कबीरधाम, कांकेर, सरगुजा, बस्तर, बिलासपुर

पो -कोरिया, सरगुजा

परजा -कांकेर, बस्तर, रायगढ़, दन्तेवाड़ा

पारथी बहेलिया-कांकेर, बस्तर, दुर्ग, रायपुर, दन्तेवाड़ा, महासमुन्द

सऊर – धमतरी, महासमुन्द, रायपुर

सोनटा/सनटा – रायगढ़, बिलासपुर

सहारिया-रायपुर, बिलासपुर, महासमुन्द

सोनर – रायपुर, धमतरी, महासमुन्द

सांवर/ सांवरा -बस्तर, रायपुर, बिलासपुर, जशपुर, धमतरी, रायगद, कोरबा,

महासमुन्द, जांजगीर-चांपा

मड़िया/ अबूझमाड़िया मुरिया  – बस्तर (अबूझमाड़ की पहाड़ी)

मुरिया – बस्तर, बीजापुर

छत्तीसगढ़ के प्रमुख गीत

छत्तीसगढ़ के प्रमुख शिल्प एवं शिल्पकार – लोक वाद्य

5 thoughts on “छत्तीसगढ़ अनुसूचित जनजाति व स्थान

  1. Analytical Essay By Sharon White

    You have finally decided to go for a graduate degree, and just about every article you could find on the Internet tells you how cutthroat the application process is. Well, that is true, but you should not let that be a setback for you. The most scoring references for academic writing are peer-reviewed reports and research papers. As an international student, it is difficult to keep up with my studies as native students do. This is why I ask professional writers for help. Although one of your objectives for writing your personal statement is to stand out from thousands of other applicants, keep in mind that you are applying for law school and not a creative writing course.

    To begin with, national honor society essays are written by students as an appeal for nomination for National Honor society. The only way to gain this skill is to write essays. Custom essay writing service ProfEssays goes on analyzing different types of essays. Final words of advice are to logically arrange the cause and effect essay material because sometimes students neglect this aspect leading to very bad grades.

    explanation
    click here to read
    find more information

    Causes And Effects

    When you apply to a college or university, you will probably be asked to write an essay or personal statement. The company offering essay writing help should set relatively cheap pricesThis will help students get essay writing help from the firm. 2- You must be very clear about the idea that you are going to show in your GMAT essays, for this, you should make an outline of ideas that must be clearly expressed to the audience.

    Other people believe that the best way of learning about life is through personal experience. According to the desired and needed designation, people used to buy a life experience degree. This Study Guide addresses the topic of essay writing. The five paragraph essay is a formal essay comprising exactly five paragraphs: an introduction, three paragraphs of body or explanation, and a conclusion.

    Feeling Listless
    Is It Better To Travel With Family Or Friends
    How To Write About Yourself In German
    ff6eb1_

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Please share